I am Rani Padmavati

मैं हूँ रानी पद्मिनी या फिर बोलो रानी पद्मावती
तुम्हें जौहर की कहानी सुनाने आई हूँ
जो भूल चूके तुम निज गौरव,
वो भूला गौरव याद दिलाने आई हूँ

भारत गुलामी की बेड़ियों में जकड़ा जाने लगा था
मुस्लिम आक्रमणकारियों को हिन्दुओं का फूट भाने लगा था
दिल्ली में खिलजी कब्जा कर बैठा……..
पूरे भारत में उसका खौफ छाने लगा था…..
भारत की दौलत लूट-लूट वह ले जाने लगा था…
स्त्रियों की इज्जत से खेलने लगे थे वो आक्रमणकारी
पूरे जनमानस के लिए त्रासदी बन गए थे वे व्यभिचारी
हिन्दू राजा एकता का मोल उस वक्त न समझ पाए
दूरदर्शिता भूलकर उन सबको अपने-अपने हित हीं भाए
खिलजी नित नये षड्यंत्र रचे जा रहा था
नित नये राज्य हड़पने को वो बौरा रहा था
चित्तौढ़ की तरफ अब वो अपने कदम बढ़ा रहा था
मन्दिरों और राज्यों का धन लूटना उनकी आदत बन गई थी
हिन्दू स्त्रियों की आबरू लूटना उनकी शानोशौकत बन गई थी
चित्तौड़ के वीरों ने युद्ध की तैयारी कर ली थी
और स्त्रियों ने जौहर की तैयारी कर ली थी
कुछ ने अपनी अस्मत से समझौता कर जिंदा रहना बेहतर समझा
हमने जौहर की आग में खुद को जलाना बेहतर समझा
ताकि वो व्यभिचारी मरने के बाद भी हमें छू न पाएँ
ताकि मरकर भी हम वीरांगनाओं के सिर न झुक जाएँ
तुम सोच रहे होगे कि……….
जौहर की अग्नि में खुद को जलाना ये कैसा विकल्प था
तुम सोच रहे होगे कि…….
खुद को अपने हाथों मिटाना ये कैसा संकल्प था
विधर्मी की दासी बनकर जीने से आसान था आग में जल जाना
हर दिन हजारों मौत मरने बेहतर था एक बार में मर जाना
जब-जब वर्तमान तुम्हें भटकाए, तो हमारा इतिहास याद करना तुम
जाति के नाम पर बंटने से पहले गुलामी का काला दौर याद करना तुम

About Aman kumar

मेरा नाम अमन कुमार है और मैं ब्लॉगिंग करता हूं स्टोरी लिखता हूं और न्यूज पोस्ट करता हूं यहां पर आपके लिए सभी तरह की न्यूज़ ले करके आता हूं मैं और आपको अच्छे-अच्छे गैजेट के बारे में नॉलेज दूंगा और इस टाइम में एप्लीकेशन पर और वेबसाइट पर काम कर रहा हूं

View all posts by Aman kumar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *